• Latest Post: #StudentSpeak about ISBM University
  • Latest Post: Be Bright, Vote for What is Right!
  • Latest Post: ISBM University conducted an event on “Leadership Management”
  • Latest Post: Enterpreunship Awareness Camp
  • Latest Post: Tree Plantation Activity at ISBM University!
  • Latest Post: स्वच्छता अभियान
  • Latest Post: #ISBMUniversity #Forbes
  • Latest Post: #ISBMUniversity #Debate #Competition
  • Latest Post: #ISBMUniversity #CITCON
  • Facebook
  • twitter
  • linkedin
  • youtube

Enterpreunship Awareness Camp

/Enterpreunship Awareness Camp

Enterpreunship Awareness Camp

छुरा – आई एस बी एम विश्वविद्यालय नवापारा (कोसमी) छुरा, जिला-गरियाबंद (छ. ग.) में chhattisgarh Industrial And Technical Consultancy Center (CITCON) द्वारा तीन दिवसीय Enterpreunship Awareness Camp उद्यमिता जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया है। जिसके अंतर्गत प्रथम दो दिन शिविर से संबंधित विभिन्न विषयों पर विषय विशेषज्ञों का व्याख्यान होगा तथा तीसरे दिन छात्र – छात्राओं को कैप्स आईस-क्रिम फैक्ट्री रायपुर अध्ययन के लिए ले जाया जाएगा।

आज द्वितीय दिन कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती वंदना के साथ किया गया। प्रथम तकनीकी सत्र मे श्री पी. के. निमोनकर (सहायक महाप्रबंधक एवं राज्य प्रमुख सिटकौन) ने छत्तीसगढ़ में विकास की संभावना एवं छत्तीसगढ़ के संसाधनों तथा उसके दोहन विषय पर व्याख्यान दिया। आपने छात्र – छात्राओं को को उद्यमी बनने के लिए प्रेरित किया तथा इस बात पर निराशा व्यक्त किया कि आज बड़े बड़े शैक्षणिक संस्थान सिर्फ़ पैकेज की बात करते हैं, जबकि स्वरोजगार को बढ़ावा देना चाहिए ताकि अन्य लोगों को भी रोजगार मिल सके।

अपने देश की व्यवस्था की कमीया निकालाना और अन्य देश जहां गये नहीं उसका तारीफ करना उचित नहीं है। ठीक वैसे ही छत्तीसगढ़ में भी उद्योग के लिए आपार संभावनाएं हैं। छत्तीसगढ़ में प्रचुर मात्रा में खनिज तथा वनसंपदा हैं, जिस पर आधारित छोटे स्तर पर उद्योग प्रारंभ किया जा सकता है फलस्वरुप उत्पादन हेतु कच्चे माल की सुलभ उपलब्धता है। मार्गदर्शन के लिए सिटकौन सदैव तत्पर है। जो कि प्रोजेक्ट निर्माण से लेकर वित्तीय सहायता तथा संसाधन उपलब्ध कराने में सहयोग प्रदान करता है। द्वितीय तकनीकी सत्र में विषय विशेषज्ञ श्री सुधांशु सुधीर जी ने छत्तीसगढ़ में कृषि क्षेत्र में चुनौती एवं संभावना पर व्याख्यान देते हुए कहा कि कम लागत में परम्परागत कृषि के माध्यम से छोटे उद्योग लगाकर रोजगार सृजित किया जा सकता है। शासन द्वारा भी जैविक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है। ईमली, मुनगा, प्याज, मेथी जैसे अनेक उत्पादन हैं जिसका आसानी से व्यवसाय किया जा सकता है। आवश्यक है कि युवा पीढ़ी अपनी सोच बदले और आवश्यक जानकारी प्राप्त कर आत्मनिर्भर बने। इस अवसर पर सिटकाॅन के समंवयक श्री दीपक गायकवाड़ एवं डाॅ पीयूष मेहता (डीन) उपस्थित थे।प्रो. ओ पी वर्मा ने स्वागत भाषण देते हुए शिविर के आयोजन के उद्देश्य को बताया। कार्यक्रम का सफल संचालन डॉ. भूपेंद्र कुमार साहू ने किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के प्राध्यापक विमला सोना,हेमंत कुमार, रोमीबाला, गोकुल प्रसाद साहू, प्रीतम साहू, अश्विनी कुमार साहू, नलिन बेलिया एवं बडी संख्या में छात्र – छात्राएँ उपस्थित थे। प्रो. गरिमा दिवान ने उद्यमिता जागरूकता शिविर के सफल आयोजन के लिए सभी को बधाई देते हुए आभार व्यक्त किया।

 

 

Share